मंगलवार, 14 जुलाई 2020

"कि क्या तुम मेरे प्रेम में हो?"

नदी समुंदर में गिरने से पहले पूछती है?
तितली फूल को चूमने से पहले पूछती है?
चिड़िया दरख़्त पर बसने से पहले पूछती है?
मुस्कान चेहरे पर आने से पहले पूछती है?
ये धुँध पहाड़ों पर छाने से पहले पूछती है?
ये रेत हवा में उड़ने से पहले पूछती है?

"कि क्या तुम मेरे प्रेम में हो?"

फिर मैं क्यूँ पूछती तुमसे?
मेरा मन था ।
मैं पड़ गयी।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...