सोमवार, 26 अगस्त 2019

पायदान

एक किताब..... कई मुकाम

दुकान
मंच
महफ़िल
सम्मान
पुरस्कार
हाहाकार
से उतर कर जब वो किताब हमारे
शेल्फों
दराजों
आंखों
होठों
हथेलियों
सीनों
सिरहानों से मन तक पहुंचती है  ....
बस उसी रोज़ वो छपती है ।

किताब पायदान चढ़ना उतरना जानती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...