रविवार, 18 अगस्त 2019

प्रसाद और श्राप

प्रतीक्षा ,एकांत ,उदासी... प्रेम से मिला प्रसाद है और हताशा उससे मिला श्राप

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लिपि

दुःख .... छोटी लिपि का अत्यंत बड़ा शब्द