शुक्रवार, 19 जुलाई 2019

स्पर्श

स्पर्श से थोड़ा अलग है प्रेम

  ले जाओ......
  गर ले सको l

 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लिपि

दुःख .... छोटी लिपि का अत्यंत बड़ा शब्द