शुक्रवार, 12 जुलाई 2019

शून्य..

हमें आकार लेना कभी नहीं आया
शून्य जैसा भी नहीं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लिपि

दुःख .... छोटी लिपि का अत्यंत बड़ा शब्द