शुक्रवार, 19 जुलाई 2019

खरा था ....कि खारा ?

जब तलक खरे हैं तालाब और कुँए तब तक ही डुबो सकते हो तुम खारा समुंदर .....

उसके बाद सिर्फ़ और सिर्फ़ वेग फूटेगा ...
वाणी से बल तक का

आक्रोश का उद्गम नहीं होता ....

बस अंत होता है...
एक विचारधारा का
एक पीड़ा का
एक साहसी का
एक चुप का

रक्त बहा क्या  ?
खरा था ....कि खारा ?

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...