शुक्रवार, 12 जुलाई 2019

हँसती हुई स्त्री

हँसती हुई स्त्री दुनिया में बेहद कम आँखों को बख्शी गयी हैं ...

उन ज्यादा आँखों को शिफ़ा पहुंचे।

कल्पना💐

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लिपि

दुःख .... छोटी लिपि का अत्यंत बड़ा शब्द