सोमवार, 12 नवंबर 2018

स्थगित प्रेम

फिर एक रोज़ प्रेम ने अपने लिए दो बैसाखियाँ ईजाद की और नाम रखा.....
"कहानी और कविता "
अब सब तक पहुँचने लगा है स्थगित प्रेम

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...