सोमवार, 15 अक्तूबर 2018

था तो था....

वो चाहे हमेशा से एक चिड़िया थी पर उसका एक मदारी था।
था तो था....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लिपि

दुःख .... छोटी लिपि का अत्यंत बड़ा शब्द