मंगलवार, 16 अक्तूबर 2018

हमेशा....

तुमने हर बार मुझे कम दिया और मैंने हर बार उससे भी कम तुमसे लिया।

ना तुम कभी ख़ाली हुए ....
ना मैं कभी पूरी हुई।

हम यूँ ही बने रहें....हमेशा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...