सोमवार, 15 अक्तूबर 2018

नीला मौन ....

फासले उसके बोए हुए थे ....
प्रेम मेरा रोपा हुआ......
नीला मौन उगा क्या कागज़ पर ?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लिपि

दुःख .... छोटी लिपि का अत्यंत बड़ा शब्द