मंगलवार, 16 अक्तूबर 2018

मेरी कविता ?

मेरी कविता ?

वही जो रोज़ मेहँदी, महावर ,सिंदूर ,काजल से लिखी और फिर बहा दी जाती है.....

इसीलिए शायद अथक रहती है।
पहुंची क्या ?
आज भेजी तो है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...