मंगलवार, 16 अक्तूबर 2018

मेरी कविता ?

मेरी कविता ?

वही जो रोज़ मेहँदी, महावर ,सिंदूर ,काजल से लिखी और फिर बहा दी जाती है.....

इसीलिए शायद अथक रहती है।
पहुंची क्या ?
आज भेजी तो है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लिपि

दुःख .... छोटी लिपि का अत्यंत बड़ा शब्द