सोमवार, 15 अक्तूबर 2018

सुनो....शुक्रिया !

प्रेम कितना भी क्यों न सिकुड़ जाए ....
सुनो....शुक्रिया !
कह देने भर की जगह होठों के बीच बची रहनी चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...