सोमवार, 4 जून 2018

हथेली भर दुःख

इतने सारे शब्द बिखरे पड़े थे पर जो कहना चाह रही थी बस वही हरसिंगार चुन नहीं पाई....
काश तुम मेरा हथेली भर दुःख देख सकते।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आओगी न कल्पना....?

आओगी न कल्पना....? अक्सर ये सपना देखती हूँ.... एक बुढ़िया पहाड़ पर एक ऊंची जगह पर डायरी की पन्ने पलट रही है। बादलों के साथ कॉफी पी रही है। हैड...