रविवार, 24 जून 2018

बिम्ब

एक शब्द लिखकर सैंकड़ों बिम्ब देखोगे?
लिखो....
"प्रेम"


मैं चुप थी पर चुप्पी कभी नहीं थी

मेरे पास अब बस चुटकी सा दिन बचा है ।
अपनी रात में मिला लो ।
स्त्री का शायद आखरी संवाद यही होता होगा।
खुद से।


ज्यादातर कविताएं अक्षर पहना पसंद करती हैं
बस कुछ एक मौन ढाँक लेती हैं।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...