रविवार, 24 जून 2018

बिम्ब

एक शब्द लिखकर सैंकड़ों बिम्ब देखोगे?
लिखो....
"प्रेम"


मैं चुप थी पर चुप्पी कभी नहीं थी

मेरे पास अब बस चुटकी सा दिन बचा है ।
अपनी रात में मिला लो ।
स्त्री का शायद आखरी संवाद यही होता होगा।
खुद से।


ज्यादातर कविताएं अक्षर पहना पसंद करती हैं
बस कुछ एक मौन ढाँक लेती हैं।


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आओगी न कल्पना....?

आओगी न कल्पना....? अक्सर ये सपना देखती हूँ.... एक बुढ़िया पहाड़ पर एक ऊंची जगह पर डायरी की पन्ने पलट रही है। बादलों के साथ कॉफी पी रही है। हैड...