सोमवार, 4 जून 2018

"आप"



रुख से नूर दे दें 
नीला सुरूर दे दें
लबों के बोल दे दें 
ख्याल अनमोल दे दें
जुबां की आवाज़ दे दें 
दिल की परवाज़ दे दें
ये हंसी भी दे दें 
सारी नमी भी दे दें
शर्मीले सब ज़ेवर दे दें 
अपनी लाल महावर दे दें
चमके चमके गौहर दे दें
अपने सारे जौहर दे दें
जब भी "हम" कभी आईने में उतरें 
वो सिर्फ "आप" हों
जो संग मेरे उभरें

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अद्धभुत हूँ मैं

खूबसूरत नहीं हूँ... मैं    हाँ ....अद्धभुत जरूर हूँ   ये सच है कि नैन नक्श के खांचे में कुछ कम रह जाती हूँ हर बार   और जानबूझ करआंकड़े टा...