सोमवार, 4 जून 2018

पसंदीदा कविता


तुम्हारे आने से बहुत देर पहले से 
और 
तुम्हारे जाने के बहुत देर बाद तक
शब्द मौन रहते हैं।

इस बीच ढेर सारी कल्पना होती है
सुनो! 
जाते हुए अपनी पसंदीदा कविता ले जाना.....
मुझसे उतारकर

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आओगी न कल्पना....?

आओगी न कल्पना....? अक्सर ये सपना देखती हूँ.... एक बुढ़िया पहाड़ पर एक ऊंची जगह पर डायरी की पन्ने पलट रही है। बादलों के साथ कॉफी पी रही है। हैड...