सोमवार, 4 जून 2018

पसंदीदा कविता


तुम्हारे आने से बहुत देर पहले से 
और 
तुम्हारे जाने के बहुत देर बाद तक
शब्द मौन रहते हैं।

इस बीच ढेर सारी कल्पना होती है
सुनो! 
जाते हुए अपनी पसंदीदा कविता ले जाना.....
मुझसे उतारकर

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...