सोमवार, 4 जून 2018

पसंदीदा कविता


तुम्हारे आने से बहुत देर पहले से 
और 
तुम्हारे जाने के बहुत देर बाद तक
शब्द मौन रहते हैं।

इस बीच ढेर सारी कल्पना होती है
सुनो! 
जाते हुए अपनी पसंदीदा कविता ले जाना.....
मुझसे उतारकर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...