सोमवार, 4 जून 2018

छूट

स्त्री छूट नहीं ...स्त्री होने की छूट मांगती आई है ...
हमें ऐसी आँखों का निर्माण करना होगा जो
स्त्री को स्त्री होता देख सकें। 
संयम नहीं ... सब्र चाहिए होगा ।
थोड़ा कम पुरुष हो जाना... ज्यादा स्त्री होना नहीं होता बल्कि ज्यादा स्त्री को होने देना होता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...