रविवार, 24 जून 2018

जीना जो है।

स्त्री एक सभ्यता लेकर पहुंचती है।
पुरुष एक सोच लेकर निकलता है।

राह ...
दोराहा...
तिराहा...
चौराहा....

सब संयम और बर्दाश्त की बात है। 
जीना जो है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...