सोमवार, 4 जून 2018

शब्द बीज

चाहूँ भी तो खुद को रोक नहीं सकती ....
मेरी मिट्टी में शब्द बीज मिल गए हैं।
कविता हर मौसम फूटेगी।
फूल हर प्रहर खिलेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अद्धभुत हूँ मैं

खूबसूरत नहीं हूँ... मैं    हाँ ....अद्धभुत जरूर हूँ   ये सच है कि नैन नक्श के खांचे में कुछ कम रह जाती हूँ हर बार   और जानबूझ करआंकड़े टा...