सोमवार, 4 जून 2018

शब्द बीज

चाहूँ भी तो खुद को रोक नहीं सकती ....
मेरी मिट्टी में शब्द बीज मिल गए हैं।
कविता हर मौसम फूटेगी।
फूल हर प्रहर खिलेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

हमेशा....

तुमने हर बार मुझे कम दिया और मैंने हर बार उससे भी कम तुमसे लिया। ना तुम कभी ख़ाली हुए .... ना मैं कभी पूरी हुई। हम यूँ ही बने रहें....हमेश...