सोमवार, 4 जून 2018

शब्द बीज

चाहूँ भी तो खुद को रोक नहीं सकती ....
मेरी मिट्टी में शब्द बीज मिल गए हैं।
कविता हर मौसम फूटेगी।
फूल हर प्रहर खिलेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यात्रा

प्रेम सबसे कम समय में तय की हुई सबसे लंबी दूरी है... यात्रा भी मैं ... यात्री भी मैं