सोमवार, 4 जून 2018

शब्द बीज

चाहूँ भी तो खुद को रोक नहीं सकती ....
मेरी मिट्टी में शब्द बीज मिल गए हैं।
कविता हर मौसम फूटेगी।
फूल हर प्रहर खिलेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

बिम्ब

एक शब्द लिखकर सैंकड़ों बिम्ब देखोगे? लिखो.... "प्रेम" मैं चुप थी पर चुप्पी कभी नहीं थी मेरे पास अब बस चुटकी सा दिन बचा है । अप...