सोमवार, 4 जून 2018

इत्मिनान

इतना इत्मिनान भी कम है कि आज भी डायरी के हर पन्ने पर तुम ज़रा ज़रा रुके हुए हो। पन्ने कभी खाली नहीं हुए और डायरी कभी भरी नहीं।
सफर और मंज़िल एक साथ तह लगाकर रखे हुए हैं ।कितने खूबसूरत लग रहे तुम।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आओगी न कल्पना....?

आओगी न कल्पना....? अक्सर ये सपना देखती हूँ.... एक बुढ़िया पहाड़ पर एक ऊंची जगह पर डायरी की पन्ने पलट रही है। बादलों के साथ कॉफी पी रही है। हैड...