शनिवार, 5 मई 2018

श्वेत श्याम

उदासियाँ अगर मुस्कुराने का हुनर रखती तो हरगिज़ श्वेत श्याम ना होती।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लिपि

दुःख .... छोटी लिपि का अत्यंत बड़ा शब्द