Follow by Email

शनिवार, 5 मई 2018

भ्रम


कभी सांस थे ......आज सिर्फ भ्रम
तुम रुक रुक कर .......इतना क्यों रुक गए ?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें