शनिवार, 14 अप्रैल 2018

मुस्कुराइए ... शब्द देख रहे

सुनोगे तो हँसते दुःख लगेंगे ...
बटोरोगे तो दाद और ताली
पलटोगे तो याद खाली खाली
वो सब जो लिख देते हो तुम कविता के नाम पर
सिलसिलेवार
शुक्र है ....कविता के अपने सुख हैं
और सीमाएं भी।
"कविवर" सब हो सकते हैं....
"वर्णमाला कल्पना वाली".... तो बस कविता के गले मे पड़ेगी

world poetry day .... मुस्कुराइए ... शब्द देख रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अद्धभुत हूँ मैं

खूबसूरत नहीं हूँ... मैं    हाँ ....अद्धभुत जरूर हूँ   ये सच है कि नैन नक्श के खांचे में कुछ कम रह जाती हूँ हर बार   और जानबूझ करआंकड़े टा...