शनिवार, 21 अप्रैल 2018

नज़्म

रखी तो मैंने बेचैनियां थी कागज़ पर ....
ये बात और है .....कि एक नज़्म निकली

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...