शनिवार, 14 अप्रैल 2018

चिलम

ज़िन्दगी अपने चिलम में हमारे ही दुख भरती है ....
हमें ही सुड़कती है और हमारे ही मुंह पर छल्ले उड़ाती जाती है
फिर भी लव यू ज़िन्दगी ..

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आओगी न कल्पना....?

आओगी न कल्पना....? अक्सर ये सपना देखती हूँ.... एक बुढ़िया पहाड़ पर एक ऊंची जगह पर डायरी की पन्ने पलट रही है। बादलों के साथ कॉफी पी रही है। हैड...