शनिवार, 14 अप्रैल 2018

तस्वीर

सुनो ये तस्वीर तुम्हारी है ......
देखोगे तो हजारों मायने निकलेंगे इस तस्वीर के
बस तुम मेरा स्पर्श सुन लेना
आओ...
अब जबकि कुछ बचा ही नहीं टूटने के लिए....
हम इक दूसरे को संजोना शुरू करें ...
ज़र्रा ज़र्रा ...
जरा जरा

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

शुभ रात

सच कहूँ ... तुम्हारे पास मेरे सुकून का बक्सा है। उसमें तुम्हारा कुछ भी नहीं ... बस  कल्पना का सामान भरा हुआ है।कुछ तस्वीरें ,कुछ फिक्र,कुछ प...