शनिवार, 14 अप्रैल 2018

औरत हूँ...

दिन में से अगर दिन बच गया तो "रात".....
रात में से गर रात बाकी रह गयी तो "दिन " हो जाऊंगी ।
औरत हूँ...
जिस्म से जहान होने में वक़्त ही कहाँ लगता है मुझे?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अद्धभुत हूँ मैं

खूबसूरत नहीं हूँ... मैं    हाँ ....अद्धभुत जरूर हूँ   ये सच है कि नैन नक्श के खांचे में कुछ कम रह जाती हूँ हर बार   और जानबूझ करआंकड़े टा...