शनिवार, 21 अप्रैल 2018

झूठ

खुद से सच्चा होने के लिए हमें बहुत सारे झूठ पार करने पड़ते हैं।
हमें तैरना आता है .... तर ना नहीं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...