शनिवार, 14 अप्रैल 2018

नाख़ून

वक़्त को अपने नाख़ून बहुत पसंद हैं हमेशा से ही ....
चाहा तो सहला लिया
चाहा तो खुरच लिया
तुम बस घाव देती रहो ....ज़िन्दगी!
नए - पुराने
जाने - अनजाने
नाखून ....पनीले रहेंगे या पैनीले
वक़्त देख लेगा

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...