शनिवार, 21 अप्रैल 2018

करीब करीब अजनबी



करीब करीब अजनबी हो जाने के लिए शुक्रिया।
कुछ नहीं हो जाने से बेहतर है तुम्हारे नाम का ये एक दुख चुन लेना।
मुश्किल ये है कि "इंतज़ार" शब्द में दो चार अक्षर और जोड़ कर उसे बढ़ाया नहीं जा सकता । वो खत्म होने को है।
मेरी बात अलग है... मैं कल्पना हूँ। तुम्हारे लिए असीम

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

शुभ रात

सच कहूँ ... तुम्हारे पास मेरे सुकून का बक्सा है। उसमें तुम्हारा कुछ भी नहीं ... बस  कल्पना का सामान भरा हुआ है।कुछ तस्वीरें ,कुछ फिक्र,कुछ प...