शनिवार, 21 अप्रैल 2018

आस्था

विश्वास में आस्था फिर भी कम हो सकती है 
पर आस्था में विश्वास जरा भी कम नहीं हो सकता।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

"कि क्या तुम मेरे प्रेम में हो?"

नदी समुंदर में गिरने से पहले पूछती है? तितली फूल को चूमने से पहले पूछती है? चिड़िया दरख़्त पर बसने से पहले पूछती है? मुस्कान चेहरे पर आने से प...