रविवार, 15 अप्रैल 2018

छोर .

छोर ... इस शब्द को
"छू" लूँ ......तो कितना कुछ....
और "छूट" जाए तो कुछ भी नहीं......

कभी सोचती हूँ ...
एक अक्षर का जुड़ना और न जुड़ना भी कितना वजूद रखता है ।
है ना?

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...