रविवार, 15 अप्रैल 2018

छोर .

छोर ... इस शब्द को
"छू" लूँ ......तो कितना कुछ....
और "छूट" जाए तो कुछ भी नहीं......

कभी सोचती हूँ ...
एक अक्षर का जुड़ना और न जुड़ना भी कितना वजूद रखता है ।
है ना?

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

शुभ रात

सच कहूँ ... तुम्हारे पास मेरे सुकून का बक्सा है। उसमें तुम्हारा कुछ भी नहीं ... बस  कल्पना का सामान भरा हुआ है।कुछ तस्वीरें ,कुछ फिक्र,कुछ प...