शनिवार, 21 अप्रैल 2018

इंतज़ार

हर कोई किसी न किसी इंतज़ार में बना हुआ है।
और इंतज़ार गिने नहीं जाते

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लिपि

दुःख .... छोटी लिपि का अत्यंत बड़ा शब्द