शनिवार, 21 अप्रैल 2018

स्पर्श .....


स्पर्श .....
एक सुकून कि तुम मेरी परिधि के भीतर हो...
सिर्फ़ मेरे लिए।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यात्रा

प्रेम सबसे कम समय में तय की हुई सबसे लंबी दूरी है... यात्रा भी मैं ... यात्री भी मैं