Follow by Email

शनिवार, 21 अप्रैल 2018

स्पर्श .....


स्पर्श .....
एक सुकून कि तुम मेरी परिधि के भीतर हो...
सिर्फ़ मेरे लिए।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें