रविवार, 15 अप्रैल 2018

भाषा

मन जब टूटता है तो कलम बीचोंबीच से चिर जाती है।
उदास कागज़ से शब्द रूठ जाते हैं।
मौन की अपनी भाषा फिर शुरू होती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

हमेशा....

तुमने हर बार मुझे कम दिया और मैंने हर बार उससे भी कम तुमसे लिया। ना तुम कभी ख़ाली हुए .... ना मैं कभी पूरी हुई। हम यूँ ही बने रहें....हमेश...