रविवार, 15 अप्रैल 2018

भाषा

मन जब टूटता है तो कलम बीचोंबीच से चिर जाती है।
उदास कागज़ से शब्द रूठ जाते हैं।
मौन की अपनी भाषा फिर शुरू होती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

शुभ रात

सच कहूँ ... तुम्हारे पास मेरे सुकून का बक्सा है। उसमें तुम्हारा कुछ भी नहीं ... बस  कल्पना का सामान भरा हुआ है।कुछ तस्वीरें ,कुछ फिक्र,कुछ प...