गुरुवार, 26 अक्तूबर 2017

अथक कविता

रंग....
रेखा .....
अक्षर ......
जब सोखना सीख रहे थे .....

तब मन और देह ने रोकना सीखना चाहा

कविता इन सबके बीच एक बार लिखी गयी
छापी गई
पढ़ी गई
और फिर ना जाने कितनी बार धुंधली हुई

अथक कविता.....

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आओगी न कल्पना....?

आओगी न कल्पना....? अक्सर ये सपना देखती हूँ.... एक बुढ़िया पहाड़ पर एक ऊंची जगह पर डायरी की पन्ने पलट रही है। बादलों के साथ कॉफी पी रही है। हैड...