गुरुवार, 26 अक्तूबर 2017

अथक कविता

रंग....
रेखा .....
अक्षर ......
जब सोखना सीख रहे थे .....

तब मन और देह ने रोकना सीखना चाहा

कविता इन सबके बीच एक बार लिखी गयी
छापी गई
पढ़ी गई
और फिर ना जाने कितनी बार धुंधली हुई

अथक कविता.....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

बिम्ब

एक शब्द लिखकर सैंकड़ों बिम्ब देखोगे? लिखो.... "प्रेम" मैं चुप थी पर चुप्पी कभी नहीं थी मेरे पास अब बस चुटकी सा दिन बचा है । अप...