Follow by Email

गुरुवार, 26 अक्तूबर 2017

उदासी

उदासी में ना रंगत है ना ज़ायका ...
फिर भी सब को डुबाये रखती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें