Follow by Email

गुरुवार, 26 अक्तूबर 2017

शाद....

जिस रोज़ भी तुम से बात होती है ....
लफ़्ज़ों में मेरे ......
आवाज़ शाद होती है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें