Follow by Email

गुरुवार, 22 जून 2017

संवाद...

मैं तुम में संवाद ढूंढ रही......

कहानियां पलट के जवाब नहीं देती । जब भी कभी याद बन आये..... मैं इंतज़ार सीख गई हूं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें