Follow by Email

बुधवार, 30 नवंबर 2016

"शहर शब्दों का"

इक पूरा "शहर शब्दों का" सांस लेने लगता है
उस पल ....जब हम तुम संग ज़िंदा से लगते हैं


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें