Follow by Email

बुधवार, 30 नवंबर 2016

"कल्पना"

सोच रही.....
इक बार खुद को फिर से शुरू करके देखूं
आदि से अंत तक सिर्फ "कल्पना" होकर देखूं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें