Follow by Email

बुधवार, 30 नवंबर 2016

तम

सोचती हूँ ....दिया क्या जलाऊँ ?
मेरा वजूद काफी होगा.......
तुम्हारा हर "तम" हरने के लिए

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें