बुधवार, 30 नवंबर 2016

गुमशुदा

फिर कुछ यूँ हुआ.......... कि "तुम" हो गए 
शब्द - शब्द....... कहानी होता चला गया 
और "मैं".....उन कहानियों में गुमशुदा हो गयी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...