बुधवार, 30 नवंबर 2016

गुमशुदा

फिर कुछ यूँ हुआ.......... कि "तुम" हो गए 
शब्द - शब्द....... कहानी होता चला गया 
और "मैं".....उन कहानियों में गुमशुदा हो गयी

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...