बुधवार, 30 नवंबर 2016

इश्किया अदब

है नहीं .....पर लगता है ......है अभी
है भी अभी..... और लगता भी नहीं 
इश्किया अदब ... मुबारक मेरे लफ़्ज़ों !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...