Follow by Email

बुधवार, 30 नवंबर 2016

कागज़

इन आँखों ने ......ताउम्र इक इंतज़ार जिया है
इन होठों ने ........ताउम्र इक इज़हार सिया है
शायद कागज़ पर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें