बुधवार, 30 नवंबर 2016

मेरे शब्द

मुट्ठी में ही चिपके रह गए आज मेरे शब्द 
आज तुम्हें मेरी सुरीली अँखियों ने लिखा 
जाने कहाँ.......... जाने कब तलक

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...