Follow by Email

बुधवार, 30 नवंबर 2016

शोर

थिरकन लकीरों में लिवा लायी थी 
इसलिए आज घुँघरुओं में रेत भर ली 
कुछ तो शोर कम हो हथेलियों का

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें