बुधवार, 30 नवंबर 2016

शोर

थिरकन लकीरों में लिवा लायी थी 
इसलिए आज घुँघरुओं में रेत भर ली 
कुछ तो शोर कम हो हथेलियों का

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैं लिखना नहीं जानती ...

सही कहते हो ...... मैं लिखना नहीं जानती  मैं तो सिर्फ पीना जानती हूँ ... कुछ समुन्दर खारा सा  कुछ अँधेरा उतारा सा अपने शब्दों के straw से क...