Follow by Email

बुधवार, 30 नवंबर 2016

शब्द



ऐसी कई कविताएं मैं अक्सर बहा देती हूँ जो मुझसे
तुम्हारे हिस्से के शब्द मांगती हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें