Follow by Email

सोमवार, 10 अक्तूबर 2016

अंतर.....

अंतर है ....
तुम खुले दरवाज़ों में भी दस्तक नहीं देते
मैं बंद दरवाज़ों पर भी अपनी अर्जी धर आती हूँ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें